भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

गारी गावे जनकपुर की नारिया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गारी गावें जनकपुर की नारियां,
दूल्हा श्री रामजी बने
जनक पहुंचे है जाय, विनती कीन्ही समुझाय
कुंअर दीजे पठाय,
हां हो गई कलेऊ की तैयारियां। दूल्हा...
करके सुन्दर वे शृंगार, आये अपने हैं ससुरार
लिये आरती सबईं उतार
रानी लाई हैं पूजा की थालियां। दूल्हा...
दिये उनको आदर सम्मान, लिये वे हैं सबके जजमान
सबने उनसे की पहिचान
कहो कैसे तुम्हारी महारानियाँ। दूल्हा...
आई सोने की थार, परसो व्यंजन बहुत प्रकार
भोजन करते चारों कुमार
सासो परसती है पूड़ी-कचौड़ियां। दूल्हा...