भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गिलहरी के प्रति / हरिवंश राय बच्चन / विलियम बटलर येट्स

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिल्ली रानी, आओ, आओ
                        मुझसे खेलो,
मुझसे प्यार-दुआएँ ले लो ।

तुम तो ऐसे भाग रही हो
जैसे मेरे पास तमँचा,
जो कि चला दूँगा मैं तुम पर;
ग़लत समझतीं मेरी मंशा ।

बस, इतना हीकर सकता हूँ,
यही करूँगा,
ज़रा तुम्हारा सिर सहलाकर
जाने दूँगा

गिल्ली रानी, आओ, आओ
                        मुझसे खेलो,
मुझसे प्यार-दुआएँ ले लो ।


मूल अँग्रेज़ी से हरिवंश राय बच्चन द्वारा अनूदित

लीजिए अब पढ़िए यही कविता मूल अँग्रेज़ी में
              William Butler Yeats
         To a Squirrel at Kyle-Na-No

Come play with me;
Why should you run
Through the shaking tree
As though I’d a gun
To strike you dead?

When all I would do
Is to scratch your head
And let you go.