भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गिला किसे है कि क़ातिल ने नीमजाँ छोडा़ / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गिला किसे है कि क़ातिल ने नीमजाँ[1] छोड़ा।

तड़प-तड़प के निकालूँगा हौसला दिल का॥


ख़ुदा बचाये कि नाज़ुक है उनमें एक-से-एक।

तुनक-मिज़ाजों से ठहरा मुआमला दिल का॥


किसी के हो रहो अच्छी नहीं यह आज़ादी।

किसी को ज़ुल्फ़ से लाज़िम है सिलसिला दिल का॥


पियाला ख़ाली उठाकर लगा लिया मुँह से।

कि ‘यास’ कुछ तो निकला जाय हौसला दिल का॥



शब्दार्थ
  1. अर्द्धमृतक