भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत-जांगडो़ / महेन्द्रसिंह सिसोदिया 'छायण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परतख ओस दरखतां पानां,
भू सब तरूवर भीना|
वसुधा प्हैर वसन हरियाळा,
लुळै वारणां लीना|

आयौ नहीं भासकर आभै,
चंदो घरां सिधायौ|
तारां टिमटिमतां ई कैग्या,
नैही शीत न्हायौ|

धूंवर ढक दीनी धरती नै,
कड़ड़़ हाड कंपावै|
अड़ड़ जिमी आंधियां आई,
इसडी़ शीत उपावै|

पंखां लियां पंखेरूं बैठा,
आभ नहीं उड पावै|
जीव जिनावर इण जाडे में,
घट धूजत घबरावै|

इतरी अरजी आज ईश सूं,
सैंस किरण रै साथां|
भू पर भळहळ करतो भेजो,
मिहिर तणा नम माथां||