भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत-मन्त्र / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


सुनो, बन्धु
यह गीत-मन्त्र है
इसे जपो पूरे मन से
इसमें भेद छिपा है
तुलसी औ' कबिरा की बानी का
जिक्र हुआ है इसमें
गंगा-कावेरी के पानी का
इसमें माटी-गंध
भरी है
जानो रामखिलावन से
रामखिलावन है हलवाहा
गाता इसे बीज-बोते
उसका बोया जो भी खाते
उनके काज सुफल होते
लय इसकी सीखी
पुरखों ने
जलपाखी के कूजन से
वन्शीधुन के औ' अजान के
इसमें सुर हैं मिले-जुले
हमने जपा इसे जब-जब भी
मन के सभी कपाट खुले
आखर-आखर
इसके उपजे
नेह-बसे घर-आंगन से