भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत कालातीत पर्वत के / श्याम नारायण मिश्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घाटियों में,

लाल-पीली माटियों में,
ढल रहे हैं नील-निर्झर-गीत पर्वत के ।

पीकर बूँद पखेरू पागल
जंगल-जंगल चहके ।
चुल्लू भर पीकर वनवासी
घाटी-घाटी बहके ।

मादलों से,
होड़ करते बादलों से,
जब बरसते हैं सुधा-संगीत पर्वत के ।

सुबह पहाड़ों के माथों पर
मलती जब रोली ।
माला हो जाती वनवासी
कन्यायों की टोली ।

अर्गलाएँ,
तोड़ सारे द्वन्द्व सीमाएँ,
तौलते हैं बाजुओं को मीत पर्वत के ।

दुपहर छापक पेड़
ढूँढकर बैठी काटे घाम ।
संध्या की रंगीन छटाएँ
बंजारों के नाम ।

यामिनी में,
दूध धोई चांदनी में,
तैर जाते गीत कालातीत पर्वत के ।