भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत / शकुन्त माथुर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुझा-बुझा गीत
सारा कुछ शीत
उलट गई सारी
बाँसुरी की रीत

बीत गई रैन
न निकल सके बैन
बँधे रुके
रोते रहे नैन
दुख न बँटा अपना
टूट गया सपना

थकी-थकी प्रीत
धोखा हुआ मीत
चाँदों में
तारों में
चलती राहों में
थकना ही थकना!