भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीत 19 / छठा अध्याय / अंगिका गीत गीता / विजेता मुद्‍गलपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अर्जुन, तप नै कभी नसावै
पूर्वजन्म के संचित तप-फल योगी फिर से पावै।

पूर्वजन्म से भी बढ़ि कै फिर योगी जतन करै छै
फेरो सब इन्द्रिय समेट, संयम में हवन करै छै
पूर्वजन्म के संस्कार बस सब-टा दोष दुरावै
अर्जुन, तप नै कभी नसावै।

भ्रष्ट तपस्वी, जे तप-फल से उत्तम कुल में आवै
पूर्वजन्म के संस्कारवश, पुनः भक्ति के पावै
यद्यपि पावै जनम धनिक घर, तदपि न भोग फँसावै
अर्जुन, तप नै कभी नसावै।

धन-दौलत-स्त्री-पुत्र-सम्मान हमेशा फाँसै
पूर्वजन्म के संस्कार, सहजें ई सब के नासै
फँसै कभी नै विषय जाल में, मोह बाँधि नै पावै
अर्जुन, तप नै कभी नसावै।