भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीदड़ का गीत / रत्नेश कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हुआँ... हुआँ... हुआँ...
मैं भी हिन्दू हुआ
अब न अज़ीमन बुआ
अल्लाह से करो दुआ
मैं भी हिन्दू हुआ
हुआँ... हुआँ... हुआँ...!