भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गीले गीले जौ का पीसना री / हरियाणवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गीले गीले जौ का पीसना री
नीका पीसूं उड़ उड़ जाय, मोटा पीसूं कोई न खाय
चौमासा सावन आ गया री, अरी मोरी मां री
इतना आटा मैं पीसा री जितना नदियां रेत
चौमासा सावन आ गया री, अरी मोरी मां री
इतनी रोटी मैं पोयी री जितने पीपल पात री
चौमासा सावन आ गया री, अरी मोरी मां री
इतने चावल मैं कुट्टे री जितने समंदर मोतियां
चौमासा सावन आ गया री, अरी मोरी मां री
रोटी रोटी बाट ली री रह गई रोटी एक री
छोटा देवर लाडला री वह भी ले गया खोस री
चौमासा सावन आ गया री, अरी मोरी मां री
कड़छी कड़छी चावल बटा लिये री रह गई कड़छी एक री
छोटी नणदल लाडलो री वह भी ले गई खोस री
चौमासा सावन आ गया री, अरी मोरी मां री