भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुजरी गंवारी और ग्वालिनी अहिर जात / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुजरी गंवारी और ग्वालिनी अहिर जात,
गारी उठ प्रातः देत शरम हूं न आवे है।
घर में दही दूध कान्ह, मान-मान मान मेरी,
तेरी सूं रात दिवस यशोदा अकुलावे है।
नंद महर बेर-बेर ग्राम गली हेर हेर,
कृष्ण नाम लेर -लेर श्याम को बुलावे है।
कहता शिवदीन लाल, राधे कर जोर कहे,
मानो ना मानो श्याम श्यामा समुझावे है।