भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुज़रने ही न दी वो रात मैंने / शहजाद अहमद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुज़रने ही न दी वो रात मैंने
घड़ी पर रख दिया था हाथ मैंने

फ़लक की रोक दी थी मैंने गर्दिश
बदल डाले थे सब हालात मैंने

फ़लक कशकोल लेके आ गया था
सितारे कर दिए खैरात मैंने