भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुड़िया का गीत / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुड़िया रानी चल दीं दुल्हन बन के ।
मारवाड़ी घाघरे में बन-ठन के ।।

जयपुरिया चूनरिया ओढ़े
बीकानेरी बोर ला
घूँघट में से ऐसे चमके
जैसे सूरज भोर का
ओढ़नी से रूप झरे छन-छन के ।
मारवाड़ी घाघरे में बन-ठन के ।।

नीचे-नीचे पलकें मीचे
दबी जा रही लाज से
बीच हथेली मेहन्दी दमके
अंग-अंग पुखराज से
डोली में बिठाई बड़ी कह-सुन के ।
मारवाड़ी घाघरे में बन-ठन के ।।

आगे-आगे गाजे-बाजे
पीछे-पीछे पालकी
जिसके पीछे चलें बराती
जिनकी चाल कमाल की
गोरखा सिपाही जैसे पलटन के ।
मारवाड़ी घाघरे में बन-ठन के ।।