भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुदना हरें गोद गुदनारी / ईसुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुदना हरें गोद गुदनारी।
कसकत बाँय हमारी।
हातन में लिख गुर गोविन्दा,
हिरदें कुँज बिहारी
गालन में लिख छब मोहन की।
फूलन फूल हजारी।
माथैं लिख दे गोबर धन की,
मूरत, प्रान प्यारी।
ईसुर चीन लये राधा ने,
ठाँडे हसत बिहारी॥