भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुनाहों की धुँद / फ़रहत एहसास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी दुआओं के ज़ख़्मी पैरों से
चलता जाता हूँ
और ये काँटे-दार रास्ता
उस वीरान मस्ज़िद तक जाता है
जिस के तमाम गुम्बद-ओ-मेहराब
मेरे गुनाहों की धुंद में
डूबे हुए हैं