भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुब्बारे-1 / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उस फटे गुब्बारे को
तर्जनी पर पहनिए
होठों से लगाइए

गुब्बारे वाली अँगुली चूसते हुए
पृथ्वी-आकाश की सारी हवा
खींच लीजिए फेफड़ों में

फिर जी उठेगा गुब्बारा
इस बार आकार में छोटा
चिटपुटिया गुब्बारा

उसे फिर फोड़िये माथे पर
किसी दीवाने की तरह
उसे चूमने के बाद

उसे फिर-फिर पहनिए तर्जनी पर ।