भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुरु-हाट चलो सखि, ज्ञान-ध्यान सीखो सखि / ब्रजेश दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुरु-हाट चलो सखि, ज्ञान-ध्यान सीखो सखि।
जीवन बनाओ सखि, रहो नैं अज्ञान हे॥
गुरु-हाट ज्ञान बिकै, गुरु-हाट ध्यान बिकै।
ज्ञान-ध्यान सौदा करि, हुओ धनवान हे॥1॥
गुरु केरो चरण में, तन-मन करो दान।
गुरु देथौं भक्ति-ज्ञान, भागथौं अज्ञान हे॥
कहै छै ‘ब्रजेश दास’, गुरु पर करो आस।
होथौं दुख तोरो नास, पैभे निरबान हे॥2॥