भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुरु सुरतार शबद सुन जागो / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुरु सुरतार शबद सुन जागो।
नातर बहो भयो बेस्वारथ आखर चार जात तन नागौ।
भूखन परो जरो बेआगी बेजल बहो पार नहिं लागौ।
अनहद कहन अलख गति जाकी चित हित आय नाम निज पागौ।
ठाकुरदास मिले गुरु पूरे जूड़ीराम नाम लौ रागौ।