भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुलोॅ के गुल खिलाना आबी गेलोॅ छै / सियाराम प्रहरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुलोॅ के गुल खिलाना आबी गेलोॅ छै
चमन के चहचहाना आबी गेलोॅ छै

बचाय केॅ के-के अपनोॅ माथ चलतै
उनका पत्थर चलाना आबी गेलोॅ छै

हय त बस तिरछी नजरोॅ के असर छै
नजरोॅ में बसाना आबी गेलोॅ छै

है अंगड़ाई बहुत कुछ कहि रहल छै
समय केहनोॅ सुहाना आबी गेलोॅ छै

अगर डर छै त बस हय बात के छै
हवा के घर जलाना आबी गेलोॅ छै

उनका दीपक जलाना आबी गेलोॅ छै
त हमरोॅ पर जलाना आबी गेलोॅ छै।