भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुल जहिड़ी चुपि कोमाइण लॻी आ / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुल जहिड़ी चुपि कोमाइण लॻी आ।
आवाज जी उस खाइण लॻी आ॥

अफ़वाह जे आईने में हर शिकिल।
सुस-पुस सां दिल दहिकाइण लॻी आ॥

ॾहकाव जी अॼु दुनिया दिलियुनि में।
हर ख़ौफ़ खे वरसाइण लॻी आ॥

बद-शिकिल चविणियुनि खे वक्त जी माउ।
बेशरम थी जनमाइण लॻी आ॥

तहज़ीब ऐं तमद्दुन जी कहाणी।
किरदार सभु बदिलाइण लॻी आ॥

कंहिं फूक ते उभिरी परमती लहर।
साहिल खे ॼणि ॻिरकाइण लगी आ॥

ऊंदहि जे सूरज जी रोशनाई।
हर नूर खे ललचाइण लॻी आ॥

सोनहिरी पोती लाहे फ़जा, अॼु।
रत-रंगु चोली पाइण लॻी आ॥