भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुल पीलो थी वियो, तोखे हर हर ॾिसी-ॾिसी / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुल पीलो थी वियो, तोखे हर हर ॾिसी-ॾिसी।
मुखिड़ीअ क़बूली हार, तो आॾो झुकी-झुकी॥

मुंहिंजे सिधे सुवाल जो, टेड़ो न ॾे जवाबु।
मूंखें मुंझाए मारि न तूं, इअं खिली-खिली॥

मूं खां नज़र बचाए उघिया हा तो पंहिंजा लुड़िक।
मूं भी रुनो हो कुंड में तो खां लिकी-लिकी॥

तो भी लिओ न पातो लंघे मंुहिंजे घर वटां।
फाड़े छॾियूं चिठियूं मूं भी, तो खे लिखी-लिखी॥

चेहरे ते दुख जी धूड़ि जो, पाछो न ॾे पवणु।
सीने में दिल भली थी वञे रख, जली-जली॥

चेड़ाए थो हू कंहिं खे, खु़शीअ खे या दर्द खे?
आखि़र हू आदमी छो थो रोए खिली-खिली॥

हिक घर मां भी उथियो न हो आवाजु़ कत्ल ते।
भुणि भुणि करे थी शहर जी, हाणे घिटी-घिटी॥

हिन ॿाहरिएं जहान ख़ां आखि़र टुटी पियुसि।
अंदर जे आदमीअ जे चए ते लॻी-लॻी॥