भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गूँगे का बयान / श्याम सखा 'श्याम'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गूँगे का बयान था
या तीरो-कमान था

फरयाद सुनकर हुआ
हाकिम बेजुबान था

घर छोड़कर चला जो
उसे मिला जहान था

ख़्वाबों में था इक घर
मुकद्दर में मकान था

खेत बिका होरी का
शेष मगर लगान था

गोदाम सब थे भरे
भूखा बस किसान था

धरती थी प्रदूषित
मैला आसमान था

मिल गया ज़हर मुझे
मुकद्दर मेहरबान था