भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गेसू को तिरे रुख़ से बहम होने न देंगे / साग़र निज़ामी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 गेसू को तिरे रुख़ से बहम होने न देंगे ।
हम रात को ख़ुर्शीद में ज़म होने न देंगे ।

ये दर्द तो आराम-ए-दो-आलम से सिवा है,
ऐ दोस्त तिरे दर्द को कम होने न देंगे ।

मफ़्हूम बदल जाएगा तस्लीम-ओ-रज़ा का,
अब हम सर-ए-तस्लीम को ख़म होने ने देंगे ।

सरसर को सिखाएँगे लताफ़त का क़रीना,
फूलों पर हवाओं के सितम होने न देंगे ।

ऐ कातिब-ए-तक़दीर हमारी भी रज़ा पूछ,
यँ नाला-ए-तक़दीर रक़म होने न देंगे ।

जब तक है दिल-ए-ज़ार में इक क़तरा-ए-ख़ूँ भी,
कम-मर्तबा-ए-लौह-ओ-क़लम होने न देंगे ।

जो ज़िन्दा ओ हस्सास बुतों की है अमानत,
उस सज्दे को हम नज़्र-ए-हरम होने न देंगे ।

उठ जाएँगे जूँ बाद-ए-सबा बज़्म से तेरी,
तुझ को भी ख़बर तेरी क़सम होने न देंगे ।

लाखों का सहारा है यही जाम-ए-सिफ़ाली,
साग़र को कभी साग़र-ए-जम होने न देंगे।