भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गैलारौ / गुणसागर 'सत्यार्थी'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीकौ
ओर न छोर
ऐसी है गैल,
गैल गहें चलो जात
हेरौ, वौ गैलारौ।
किदना निगौ?
कोऊ नइँ जानत
बस निगत सबइ नें देखौ,
मानों
चका होय गाड़ी कौ,
भमत जात है ऐसें
जैसें पथरा ढँड़कत-
चूना पीसत की चकिया कौ।

लीला-धौरा
खैंचत जिऐ समै के बैला
और संग में
पिसत जात है दिन चूना-से
हराँ-हराँ सब
जिँदगानी के।