भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गॉव याद आबै छै / प्रदीप प्रभात

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गॉव याद आबै छै
महकै छै सासोॅ मेॅ
मांटी के सोन्होॅ सुगन्ध।
पीपर के पत्ता डोलै छै
आशीष बोलै छै
गॉव याद आबै छै।
गैया के गोबर सेॅ
माय के हाथोॅ सेॅ
निपलोॅ घोॅर ऐंगन।
तुलसी के चौरा
मनोॅ मेॅ भावै छै
गॉव याद आबै छै।
खेतोॅ मेॅ झुली रहलोॅ छै
धानोॅ के बाली।
गहूँम बुभै खातिर
खेत पड़लोॅ छै खाली।
सरसौं के फूल लुभावै छै,
गॉव याद आबै छै।
सुहानों लागै छै,
टुन-टुन बैलोॅ के जोड़ी।
लादलोॅ अनाज पीठी पर,
साहु रोॅ घोड़ी।
गैया डिफरै छै
बछिया पिलावै छै।
गॉव याद आबै छै
आशीष बोलै छै।
आमोॅ गाछी मेॅ एैलोॅ मंजर,
भोररिया गिरै छै महुआ भर-भर।
यादों रोॅ झरोखा मेॅ बैठलोॅ छी,
बीतलोॅ दिनों केॅ मनोॅ मेॅ गुणैं छी।