भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

गोंदा फुलगे मोरे राजा / छत्तीसगढ़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

हो गोंदा फुलगे मोरे राजा
गोंदा फुलगे मोर बैरी
छाती मं लागय बान
गोंदा फुलगे~~
हो गोंदा फुलगे मोरे राजा
गोंदा फुलगे मोर बैरी
छाती मं लागय बान
गोंदा फुलगे~~
गोंदा फुलगे मोरे राजा~~~

ठाढ़े हे बै~री टरत नई ये
हो~~~ ठाढ़े हे बैरी टरत नईये~
मोर आंखी के पिसना
मोर आंखी के पिसना मरत नईये~
गोंदा फुलगे~~
गोंदा फुलगे मोरे राजा
गोंदा फुलगे मोर बइरी
छाती मं लागय बान
गोंदा फुलगे~~
हो गोंदा फुलगे मोरे राजा~~ हा हा~~

पूनम के चंदा लजा के मर जाए~~
पूनम के चंदा लजा के मर जाए
तोर रूप आज रतिहा
तोर रूप आज रतिहा गजब गदराए
गोंदा फुलगे~~
गोंदा फुल गे मोरे राजा
गोंदा फुल गे मोर बैरी
छाती मं लागय बान
गोंदा फुलगे~~
हो गोंदा फुलगे मोरे राजा~~
होहो~ ओहो~ अहा~ अहा~ अहा~

सुआ नही बोले ना बोले मैना
हो~~ सुआ नही बोले ना बोले मैना
मैं तरसत हव सुनेबर तोरेच बैना
गोंदा फुलगे~~
गोंदा फुल गे मोरे राजा
गोंदा फुल गे मोर बैरी
छाती मं लागय बान
गोंदा फुलगे~~
हो गोंदा फुलगे मोरे राजा~~
हो~ हा हहा हा~~