भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गोना करैले रानू कोबरा बसैले / अंगिका

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गोना करैले रानू कोबरा बसैले
ओ कोबरा में सूतलि निचित ।
माय तोरा हंटौ बाप तोरा घोपौ
जनु जाह कोसी असनान ।।
काँख लेल धोतिया रानू हाथ लेल लोटवा
चलि भेला कोसी असनान ।।
एक कोस गेला रानू दुई कोस गेला
तीजे कोस कोसी केर धार
एक डूब देलैन रानू दुई डूव देलैन
तीजे डूव धसना खसाय ।।
अस्सी मन कोदरिया कोसी माय
चैरासी मन डाँट ।
जोड़ा एक पाठी कोसी माय
तोहरा चढ़ैबौ हे,
बकसि देहु रानू केर परान ।।