भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गोपी, ग्वाल, नंद, जसुदा सौं तौं विदा ह्वै उठे / जगन्नाथदास ’रत्नाकर’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोपी, ग्वाल, नंद, जसुदा सौं तौं विदा ह्वै उठे
उठत न पाँय पै उठावत डगत हैं ।
कहै रतनाकर संभारि सारथी पै नीठि
दीठिन बचाइ चल्यौ चोर ज्यौं भगत हैं ॥
कुंजनि की कूल की कलिंदी की रूएँदी दसा
देखि-देखि आँस औ उसाँस उमगत हैं ।
रथ तैं उतरि पथ पावत जहाँ ही तहाँ
बिकल बिसूरि धूरि लोटन लगत हैं ॥102॥