भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

गोरी के जोबना / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गोरी के जोबना हुमकन लगे,
जैसे हिरनियों के सींग ।
मूरख जाने खता फुनगुनू,
वे तो बाँट लगावे नीम ।

भावार्थ

--'गोरी के उरोज उभरने लगे,
हिरनी के सींगों समान
मूर्ख उन्हें फोड़े-फुन्सी समझ रहा है
और वह उन पर नीम के पत्ते रगड़ कर लगा रहा है'