भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गोरी गोरी बहियाँ हरी पीरी चुरियाँ / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोरी गोरी बहियाँ हरी पीरी चुरियाँ
ईंगुर डोरे ककना मकनपुर ले चलौ बलमा।
सैअर मकनपुर में झिंझरियन लटक रहे फुदना
झिंझरियन ढिग ले चलौ बलमा। मकनपुर...
सासो मोरी उमई ननद मोरी उमई उमये चले बलमा
मकनपुर ले...
सैअर मकनपुर में भीर बहुत है बिछुर गये बलमा।
मकनपुर...
सासो ननदिया तुमरे पैयाँ लागों बिछुरे मिलाओ बलमा।
मकनपुर...
देवरानी जिठानी तुमें गुड़ दैहें बिछुरे मिलाओ बलमा।
सैअर मकनपुर की भीर उपट गई सो बिछुरे मिले बलमा।
सासो ननदिया तुमई झक मारौ पियरा मिलाये बलमा।
मकनपुर...
देवरानी जिठानी तुमई झक मारौ पियरा मिलाये बलमा।
सीस अन्हाउतन बहू कौ पेट रऔ है पुल पर भए ललना।
रूप रूपैया मैं दाई खों देहों इनने जनाये ललना।
मकनपुर...
मुहर अशर्फी पुरोहित खों देहों नाव धराये ललना।
सासो कहै बहू बाँझ बँझूठी कबहूँ न भए ललना।
मकनपुर...
इक दिना बहू परीन आई पीरन दये ललना।
गोरी गोरी बहियाँ...