भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गोरेटो त्यो गाउँको / रत्न शमशेर थापा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गोरेटो त्यो गाउँको लौन आज
खोजी खोजी थाके नि
पैल्याउन सकिन
पैल्याउन मैले सकिन

एकलास बनमाझ देखिने बाटो आज
अल्मलिएँ लौन म त
आवाज नपाई मायालु तिम्रो
वनभित्र थाके नि
पैल्याउन सकिन
पैल्याउन मैले सकिन

झमक्क पर्यो साँझ कहाँ बस्ने बास
एक्लो भएँ लौन म त
खबर नपाई मायालु तिम्रो
दोधारैमा परे नि
पैल्याउन सकिन
पैल्याउन मैले सकिन