भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गोलमहल / ऋषभ देव शर्मा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


गोल महल में
     भारी बदबू,
          सीलन औ' अवसाद;
               धूप से
                    टूट गया संवाद।
 


कुर्सीजीवी कीट
     बोझ से
          धरती दबा रहे हैं;


मोटी एक किताब,
     उसी के
          पन्ने चबा रहे हैं;
 

दरवाज़े हैं बंद
     झरोखों तक
          मलबे की ढेरी;
 

दिवा रात्रि का आवर्तन है
     चमगादड़ की फेरी;
 

                   इसको दफ़न करें मिटटी में
                   बन जाने दें -
                        खाद !