भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गौरैया: दो / असंगघोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

उड़ती हुई गौरैया
चली आती है
हमेशा की तरह
मेरे जेहन मे
चिड़ची करती
मन के कोने पर बैठ
अपने अक्स पर बार-बार चोंच मारती
चिल्ला-चिल्ला कर कहती मुझसे
निकल जाओ यहाँ सिर्फ में रहूँगी
तुम्हारे जैसे
अस्थिर अन्तर्मन की मुझे जरूरत नहीं है।