भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गौरैये / भास्कर चौधुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे
न तो
ढोल पीटते हैं
न रचते हैं
प्रेम पर असंख्य कविताएँ
वे तो बस
प्रेम करते हैं
प्रेम करते रहते हैं...