भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्यान / श्याम महर्षि

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


बंद आलमारयां री
पोथ्यां मांय
ढूंढ रैयो हूं
ग्यान म्हैं

नागौरी ओकड़ जूं
बळती जाय रैयी
म्हारी समझ
लगोलग

ऐवड़ रो बोल
अर गीता रै
ग्यान रो फरक
करतो म्हैं,
बगतो जावूं
मनीषी दांई
अर सोचूं
मुगती रो मारग।

राजपथ री
पालकी माथै बैठया
फळसाग्यानी
पोमीजै अर
परमोद सिखावै
ओजूं ई चिन्तन री धार सूं
सम्मैं री बेलड़ी नैं
बाढ़ण नै हिचकूं म्हैं।