भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्रीषम की पीर के विदीर के सुनो ये साज / ग्वाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ग्रीषम की पीर के विदीर के सुनो ये साज,
तरु-गिरि तीर के, सुछाया में गंभीर के ।
सीतल समीर के सुगंधी गौन धीर के जे,
सीर के करैया प्यासे पूरित पटीर के ॥
ग्वाल कवि गोरी दृग-तीर के, तुसीर के सु,
मोद मिलें जैसें अकसीर के, खमीर के ।
आबखोरे छीर के, जमाये बर्फ चीर के,
सु बंगले उसीर के, भिजे गुलाब-नीर के ॥