भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ग्रीष्म : एक कविता / शैलेन्द्र चौहान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झंकृत होती हैं

नाड़ियाँ

शिराओं का बढ़ जाता है चाप

तापमापी करता दर्ज़

तापमान

अड़तालीस डिग्री सैलसियस

कविताऍ होती वाष्पित जल-सी

उत्सर्जित होती

स्वेद-सी

फूटती मन और शरीर से

फैल जाती हैं

ब्रह्मांड में