भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घंटी / नील कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बजती है घंटी
प्रार्थना का समय है

करबद्ध यह जम्हूरियत
किसके सजदे में खड़ी है

बजती है घंटी
घंटी के बजने के साथ-साथ
बच्चे पढ़ते हैं इतिहास-भूगोल

घंटी के बजने का मतलब
गणित वाले मास्साब का आना है

सवाल है
श्यामपट्ट है
खड़िया है

देश के लिए सभ्य नागरिक
बनाने का कारखाना
चलता है घंटी से

बजती है घंटी
खुलते हैं टिफ़िन के डिब्बे
खुलती हैं पानी की बोतलें

बजती है घंटी
मिलती है सांस लेने की फुर्सत ... ।