भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घंटी / विनीता परमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 ये घंटी भी अजीब है,
जन्म के साथ थालियों की घंटी
उठने के लिये अलार्म की घंटी
दरवाजे पर दस्तक की घंटी
फोन की घंटी
स्कूल की घंटी
छुट्टी की घंटी
मंदिर की घंटी
शवयात्रा की घंटी
सबकी आवाज़ तो एक है
फिर एक संगीत तो दूसरा शोर
एक के बजते ही लब और डब झंकृत हो जाता है
दूसरी नसों में रक्त संचार रोक देती है
और मेंरा मन कभी इन घंटियों की आवाज़ को चुभन समझता है
कभी ऐसी घंटी बजाने की
कोशिश करता है
जिससे ओम,आमेन और आमीन निकल जाये।