भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

घट छोड़ दे तिलंगवा भरौ गगरी / बघेली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

घट छोड़ दे तिलंगवा भरौ गगरी - घट छोडद्य दे
सोनेन गगरी रूपेन गोनरी - घट छोड़ दे तिलंगवां
घट छोड़ दे तिलंगवा भरौ गगरी घट छोड़ दे
ठाढ़े भरौ राजा राम देखत हैं
निहुरि भरौ मोर भीजै चुंनरी - घट छोड़ दे
घट छोड़ दे तिलंगवा भरौ गगरी - घट छोड़ दे
चांड़े रेंगों मोर छलके गगरिया
धीरे रेंगों घर रोवइ बलकवा - घट छोड़ दे
घट छोड़ दे तिलंगवां भरौ गगरी - घट छोड़ दे