भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घड़ी री घड़ी! / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घड़ी री घड़ी!
नींद से न जगा।
ट्रिन-ट्रिन कर चुकी बहुत,
अब चुप लगा।

छुट्टी का दिन है
स्कूल नहीं जाना,
छोड़ कभी तो
रोज-रोज ये सताना,
सुबह-सुबह करती
क्यों किरकिरा मजा?

पूरे दिन टिक-टिक
टिक-टिक-टिक करती,
पलभर भी क्या तेरी
आँख नहीं लगती?
खाती है तू ऐसी
कौन-सी दवा?
सोने की दुश्मन!
मुझको ये बता।