भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घनश्याम जिसे तेरा जलवा नज़र आता है / बिन्दु जी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घनश्याम जिसे तेरा जलवा नज़र आता है।
उससे ये कोई पूछे क्या नज़र आता है।
यार तू ही रौशन है हर शय में तेरी लौ है।
हर दिल में तेरी सूरत पै शैदा नज़र आता है।
हैरां हैं नजरें भी अब ग़ैर को क्या देखें।
नजरों में भी तेरा नक्शा नज़र आता है।
बतलाएं किसी को क्या हम क्या हैं आँसू भी।
एक ‘बिन्दु’ उल्फ़त का दरिया नज़र आता है।