भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर-3 / अरुण देव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बुग्गी (भैंसागाड़ी) पर सवार अल-सुबह नदी किनारे घुटने तक झुके
ईंटो ने कहा रेत से कि आओ चलो हमारे साथ
हमारे बीच रहना
न रिसना, न भुरभुराना, बस, जकड़ लेना
जकड़े रहना
रेत पानी से बाहर आई ..
रेत के पीछे-पीछे दूर तक टपकता रहा पानी
पानी देर तक बुलाता रहा…