भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर-6 / अरुण देव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कठफोड़वा ले आई काठ
खट-खट-खट की आवाज़ से भर उठा वह अधबना घर

बनाई उसने चौखट
खिड़कियाँ, दरवाज़े, रोशनदान कि सुबह-सुबह आए सूरज
कि आए हवा
कि दिन और रात..आएँ