भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर जी ज़मीन टुकर खे पंहिंजो वतन लिखनि था! / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर जी ज़मीन टुकर खे पंंहिंजो वतन लिखनि था!
के कम-निगाह हिक ई गुल खे चमन चवनि था॥

भॻवानु मुंहिंजो आहे, तुंहिंजे ख़ुदा खां ॾाढो!
इन जे करे ॿिन्ही जा, अॼु झोपड़ा जलनि॥

‘मज़हब नहीं सिखाता’ जो राॻु आ नगर में।
गोलियूं हलनि दमा-दम, सुर में छुरा लॻनि था॥

इज़्ज़त जी थोल्हि वारा क़द जा ॾिघा जे आहिनि।
ॼाणीं नथो तूं कहिड़ियूं ही ज़िल्लतूं ॻहनि था॥

सादनि जो क़र्जु घुरन्दे, सिरु भी झुकी वञे थो।
चालाक शख़्स इज़्ज़त ऐं शान सां पिननि था॥

सवलो हुनुरु ही नाहे, ही फ़नु घणो पुछे थो।
को को ग़ज़ल लिखे थो, बाक़ी वज़न लिखनि था॥