भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घर पिछुआरी लोहरवा भैया हो मितवा / कबीर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

॥निर्गुण॥

घर पिछुआरी लोहरवा भैया हो मितवा।
हंसा मोरा रहतौ लुभाय के हो मितवा॥घर.॥
पीपर के पात फुलंगिया जैसे डोले हो मितवा।
जैसन डोले जग संसार हो मितवा॥घर.॥
लख चौरासी भरमी यह देहिया हो मितवा।
कबहू ना लिहलै सतगुरु नामिया हो मितवा॥घर.॥
कहहि कबीर सुनो भाई साधो हो मितवा।
संतो जब लेहू न विचारी हो मितवा॥घर.॥