भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

घर / नीरज दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

थूं अर म्हैं पाळ्‌यो
हजार-हजार रंगां रो
एक सुपनो।

थारी अर म्हारी दीठ रो
थारै अर म्हारै सुपनां रो
एक घर हो
जिको अबै धरती माथै
कदैई नीं चिणीजैला।

मा कैवै-
मूरखता है
घर थकां रिंधरोही मांय हांडणो।
बाळ दे- नुगरा सुपनां नै
जिका दिरावै थाकैलो
अर करावै
बिरथा जातरा।

कविता का हिंदी अनुवाद

तुमने और मैंने पाला
हजार-हजार रंगों का
एक सपना ।

तुम्हारी और मेरी निगाहों का
तुम्हारे और मेरे ख्वाबों का
एक घर हो
जो अब धरती पर
नहीं बनेगा कभी ।

मां कहती है-
बेवकूफी है
घर होते बियाबान में भटकना ।
आग लगा दो-
ऐसे नुगरे सपनों को
जो थका डालते हैं
और करवाते हैं
व्यर्थ यात्रा ।

अनुवाद : मदन गोपाल लढ़ा