भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घहरि घहरि घन सघन चहुँधा घेरि / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घहरि घहरि घन सघन चहुँधा घेरि ,
                 छहरि छहरि विष बूँद बरसावै ना.
द्विजदेव की सौं अब चूक मत दाँव,
                 एरे पातकी पपीहा!तू पिया की धुनि गावै ना.
फेरि एसो औसर न ऐहै तेरे हाथ,एरे,
                 मटकि मटकि मोर सोर तू मचावै ना.
हौं तौ बिन प्रान,प्रान चाहत तजोई अब,
                 कत नभ चन्द तू अकास चढि धावै ना.