भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घाम / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जा मेरे आंगन से घाम
गर्मी में क्या तेरा काम
नहीं हटेगा तो झाड़ू से,
तुझे बटोरुंगा मैं घाम।

नहीं हटेगा तो पानी से,
तुझको बोरुंगा मैं घाम।
कमरे में मैं बंद न हूँगा,
मुझे न भाता है आराम
जा मेरे आंगन से घाम।