भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घोर कुकर्मन कौ खा रये हैं / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घोर कुकर्मन कौ खा रये हैं ।
नासमिटे सो गर्रा रये हैं ।

पढ़ गए कारौ कोट पैर लऔ,
ई खौं ऊ सें उरझा रये हैं ।

मास्साब मौड़न सें देखौ,
गुटका बीड़ी मंगवा रये हैं ।

बाबू जी रिश्पत लै लै कें,
साहब जी खौं पौंचा रये हैं ।

थानन की लीलामी हो रई,
जुलम दरोगा जी ढा रये हैं ।

चमचा मंत्री के मौड़न खौं,
हगा मुता रये सोंचा रये हैं ।

जोंन कमाऊ पूत मन्त्री,
वे मुखमन्त्री खौं भा रये हैं ।

बड़े साब नेतन खौं जूता,
पाँव पकर कें पैरा रये हैं ।